अब भारतीयों को मिलेगा फ्री इंश्योरेंश का हक

अब भारतीयों को मिलेगा फ्री इंश्योरेंश का हक* *भारत क्लेम्स' एप के जरिये देश के साढ़े तीन सौ परिवारों को मिला उनका 10 करोड़ बीमा राशि का दावा* कानपुर भारत में इंश्योरेंश क्लेम पाने की प्रक्रिया काफी मुश्किल साबित होती है, जिसके नये तरह से समाधान की जरूरत है। दुर्घटनाओं एवं कोविड 19 में हुई मौतों की बढ़ती संख्या को मद्देनजर लाभार्थियों की पहचान कर सरल प्रक्रिया के तहत क्लेम की राशि उन तक पहुंचाना समय की मांग बनती जा रही है। इन चुनौतियों को देखते हुए 'भारत क्लेम्स' एप डिजिटल समाधान लेकर आया है, जो लोगों को उनके मुफ्त एवं अज्ञात बीमा पॉलिसियों को जानने में मदद करता है। 'भारत क्लेम्स' के जरिये अब तक लगभग साढ़े तीन सौ परिवारों को उनके जाने-अनजाने बीमा पॉलिसियों से कुल 10 करोड़ रुपये के दावे प्राप्त हुए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, इस साल मई तक कोविड 19 से होने वाली पांच लाख से अधिक मौतों के आंकड़े दर्ज किये गये हैं। इसमें व्यक्तिगत, ग्रुप पॉलिसी और पीएम जीवन ज्योति बीमा योजना (पीएमजेजेबीवाई) के तहत कोविड के कारण मृत्यु के दावों के मुआवजे की सूचना दी गई थी। भारतीय बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण (IRDAI) के अनुसार, जीवन बीमा फर्मों ने कोविड 19 के चलते होने वाली मृत्यु पर 2.2 लाख दावों का निपटारा किया एवं मार्च 2020 में देश में महामारी की चपेट में आने के बाद से 17,000 करोड़ रुपये से अधिक का भुगतान किया है। गौरतलब है कि सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्र के बीमाकर्ताओं के अलावा, बैंक, वित्तीय संस्थान, क्रेडिट, डेबिट कार्ड, बैंक खातों, एवं सरकारी योजनाओं जैसे- पीएम जीवन सुरक्षा बीमा योजना, जीवन ज्योति बीमा योजनाएवं पीएम गरीब कल्याण योजना, पीएफ खाता और गैस सिलेंडर आदि पर जीवन बीमा कवर प्रदान किया जाता है। ऐसी कई बीमा पॉलिसी मुफ्त में मुहैया की जाती हैं, लेकिन ज्यादातर लोगों को इसकी जानकारी नहीं है। अक्सर जागरूकता की कमी, बीमा कंपनियों की अनिच्छा एवं दावा राशि प्राप्त करने की जटिल प्रक्रिया के चलते लाभार्थी दावा प्राप्त करने में सक्षम नहीं होते हैं। ऐसे में 'भारत क्लेम्स' एप उन लोगों की समस्या का समाधान लेकर आया है जो बीमा पॉलिसी दावों की जटिल प्रक्रिया से परेशान है, या अपने अज्ञात बीमा पॉलिसी से अनजान हैं। इस बारे में भारत क्लेम्स के एमडी एवं सामाजिक उद्यमी श्री कवींदर खुराना ने अधिक जानकारी देते हुए कहा कि "दुनिया के पहले भारतीय मोबाइल एप 'भारत क्लेम्स' ने लोगों को बीमाकर्ताओं की अनिच्छा एवं मुश्किल प्रक्रियाओं से छुटकारा पाने एवं मुफ्त व प्रीमियम भुगतान वाली बीमा पॉलिसियों पर दावे के तरीकों से अवगत कराया है। उन्होंने बताया कि अब तक, हमने साढे तीन सौ परिवारों के लिए कुल 10 करोड़ रुपये के दावों की प्रतिक्रिया मे मदद कि है। इसी तरह गुजरात, राजस्थान, पश्चिम बंगाल और अन्य राज्यों में हजारों परिवार अपने दावे प्राप्त करने की प्रक्रिया में हैं।” काफी समय से बीमा क्षेत्र में, उपभोक्ताओं को पॉलिसी की जानकारी देने, प्रीमियम की याद दिलाने एवं सरकार द्वारा दी जा रही मुफ्त बीमा के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिये किसी प्लेटफॉर्म का नहीं होना एक बड़ी चुनौती रही है। इसका डिजिटल समाधान है भारत क्लेम्स मोबाइल एप, जो आधार कार्ड एवं अन्य विवरण अपलोड करने के बाद, उपयोगकर्ता को सभी मुफ्त और अज्ञात बीमा पॉलिसियों के बारे में जानकारी प्रदान करता है। किसी की मृत्यु के मामले में, यह एप उनके परिवार और आश्रितों के लिए त्वरित दावों की सुविधा देता है। दरअसल, 'भारत क्लेम्स' मोबाइल ऐप सभी सरकारी डेटाबेस को एक प्लेटफॉर्म पर एकीकृत करता है, जो केवल आधार संख्या या आधार स्कैन द्वारा पॉलिसी की जानकारी प्राप्त कर सकता है। मुफ्त बीमा का दावा करने से लेकर दावा राशि प्राप्त के लिये विशेषज्ञ सहायता प्रदान करने तक, 'भारत क्लेम्स' अपनी तरह के पहले मोबाइल ऐप, वन-स्टॉप टेक प्लेटफॉर्म के रूप में उभरा है। ------------------------------------------------------------------ LIC

Comments

Popular posts from this blog

फिल्म फेयर एंड फेमिना भोजपुरी आइकॉन्स रंगारंग कार्यक्रम

अखिलेश ने मांगा लखनऊ के विकास के नाम वोट

कार्ल ज़ीस इंडिया ने उत्तर भारत में पहले अत्याधुनिक ज़ीस विज़न सेंटर का शुभारंभ