रेटिनल स्वास्थ्य के लिए निवारक देखभाल ज़रूरी -डॉ. शोभित चावला

विश्व रेटिना दिवस: रेटिनल स्वास्थ्य के लिए निवारक देखभाल महामारी ने लोगों को एक स्वस्थ जीवनशैली के प्रति अधिक जागरूक होने के लिए प्रेरित किया है, हालांकि, जब खुद से निवारक उपायों को लागू करने की बात आती है, तो रेटिना के स्वास्थ्य को प्राथमिकता सूची में अभी शामिल किया जाना बाकी है। रेटिनल बीमारी लगातार बढ़ने वाली हैं जो किसी को शुरुआती उम्र 1 में प्रभावित कर सकती हैं, हालांकि जागरूकता की कमी के कारण लोगों में इन बीमारियों की पहचान तब होती है, जब उसके गंभीर लक्षण दिखाई देने लगते हैं। एज-रिलेटेड मैकुअलर डिजनरेशन (एएमडी) और डायबिटिक रेटिनोपैथी (डीआर) जैसे रोग देखने की शक्ति को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचा सकते हैं या आंखों की रोशनी कम होने (विजन लॉस) का कारण बन सकते हैं, यदि उन्‍हें सटीकता से सही समय प[\pर प्रबंधित नहीं किया जाता है। एएमडी सेंट्रल विजन को प्रभावित करता है और वृद्धों में अधिक आम है। डीआर रेटिना की रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचाकर मधुमेह रोगियों में स्थायी अंधापन या आंखों की रोशनी कम होने का कारण बनता है। लखनऊ स्थित प्रकाश नेत्र केंद्र के मुख्य विट्रियोरेटिनल कंसल्टेंट डॉ. शोभित चावला ने कहा, “आंखों की उचित देखभाल उन स्थितियों का पता लगाने में पहला कदम हो सकती है जो किसी रोगी के समग्र स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकती हैं। मधुमेह और उच्च रक्तचाप जैसे रोग आंखों की रोशनी की समस्या का कारण बन सकते हैं। नियमित रूप से किसी नेत्र चिकित्सक के पास जाने से आंखों को स्थायी नुकसान होने से पहले इन स्थितियों का पता लगाया जा सकता है। आंखों की बीमारियां आम हैं और दुर्भाग्य से उनके प्रभावों के बारे में जागरूकता की कमी के कारण लंबे समय तक किसी का ध्यान नहीं जाता है। मधुमेह का केंद्र होने के साथ ही भारत की लगभग 30% आबादी डायबिटिक रेटिनोपैथी से पीड़ित है, जिनमें से 10-12% में मैकुलर एडिमा या प्रोलिफेरेटिव डायबिटिक रेटिनोपैथी जैसी आंखों की रोशनी चले जाने की गंभीर स्थिति है। इसलिए, दृष्टि हानि को रोकने के लिए प्रारंभिक अवस्था में नेत्र रोगों का पता लगाने के लिए किसी ऑप्टोमेट्रिस्ट या नेत्र रोग विशेषज्ञ द्वारा व्यापक रूप से आंखों की जांच करना महत्वपूर्ण है। विशेष रूप से मधुमेह और बुजुर्ग आबादी वाले लोगों के लिए एक वार्षिक, नियमित नेत्र जांच अनिवार्य है ताकि शीघ्र देखभाल करते हुए आंखों की रोशनी जाने से रोका जा सके।" रेटिनल स्वास्थ्य के लिए बचाव उपाय विजन लॉस उम्र बढ़ने का एक अनिवार्य परिणाम नहीं है और इसे अच्छी तरह से प्रबंधित किया जा सकता है। यही बात पुरानी बीमारियों के कारण खराब रेटिनल स्वास्थ्य पर भी लागू होती है। एक अच्छा आहार स्वस्थ जीवनशैली और समय-समय पर जांच जैसे कई कारक रेटिना को होने वाले नुकसान को रोकने में दद कर सकते हैं। आपके लिए यहां कुछ सलाह दी गई हैं: ● आंखों से संबंधित बीमारियों के बारे में जागरुकता उन बीमारियों से अवगत रहें जो आपको प्रभावित कर सकती हैं और उन्हें कैसे रोका जा सकता है। यदि आप एक पुरानी बीमारी से पीड़ित हैं, तो यह जानने के लिए अपने डॉक्टर से बात करें कि क्या यह आपके रेटिना को प्रभावित कर सकता है और कैसे नुकसान को रोकने के लिए इसे बेहतर तरीके से प्रबंधित किया जा सकता है। ● समय-समय पर आंखों की जांच अच्छे रेटिनल स्वास्थ्य के लिए सबसे महत्वपूर्ण टिप ऑप्टोमेट्रिस्ट या नेत्र रोग विशेषज्ञ से नियमित रूप से आंखों की जांच करवाना है। यह बीमारियों को रोकने या प्रारंभिक अवस्था में स्थितियों का पता लगाने में मदद कर सकता है ताकि आप इसे बेहतर ढंग से प्रबंधित कर सकें और विजन लॉस को रोक सकें। ● इलाज का पालन करना केवल एक विशेषज्ञ ही यह निर्धारित कर सकता है कि आपको आंखों को हाइड्रेट रखने के लिए बूंदों की जरूरत है या उन्नत एएमडी के लिए लेजर थेरेपी की। इसलिए, बेहतर नतीजों के लिए डॉक्टर से संपर्क करें और आप सुझाए गए इलाज का पालन करें। ● नियमित रूप से ब्‍लड प्रेशर, ब्‍लड ग्‍लूकोज के स्तर और कोलेस्ट्रॉल की निगरानी करना दिल और आंखों सहित अन्य अंगों को नुकसान से बचाने के लिए नियमित रूप से ब्‍लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल की निगरानी करना महत्वपूर्ण है। मधुमेह रोगियों में ब्‍लूड ग्‍लूकोज का उच्‍च स्तर डीआर को जन्म दे सकता है। ● संतुलित आहार लेना अमेरिकन ऑप्टोमेट्रिक एसोसिएशन आपकी आंखों के लिए नियमित रूप से अपने आहार में कुछ पोषक तत्वों को शामिल करने के महत्व पर प्रकाश डालता है। पालक, केला और अंडे जैसे खाद्य पदार्थ, आपके आंखों के पुराने रोगों के जोखिम को कम कर सकते हैं। विटामिन सी, जो बहुत सारे फलों और सब्जियों में होता है, उम्र से संबंधित विजन लॉस की प्रगति को धीमा कर सकता है। अलसी, चिया सीड्स, अखरोट और मछली जैसे स्रोतों से प्राप्त ओमेगा-3 फैटी एसिड आपके रेटिना के समुचित कार्य के लिए महत्वपूर्ण हैं, जो आपके मस्तिष्क को विजुअल संदेश भेजता है। रेटिना को हुए नुकसान को शायद ही पलटा जा सकता है। इसलिए, आंखों की रोशनी कम होने से रोकने या अंधेपन को रोकने का आपका सबसे अच्छा मौका जागरूक होना और अपनी आंखों की देखने की क्षमता की रक्षा करना है। यदि आपके पास पुरानी बीमारियों का पारिवारिक इतिहास है या आप बीमारियों से ग्रस्त हैं, तो नियमित रूप से अपनी आंखों की जांच करवाएं। माना जाता है कि आनुवंशिकी ओकुलर स्वास्थ्य को खराब करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है और बचपन के अंधेपन के 60% से अधिक मामलों का कारण है। 2 नियमित जांच, एक स्वस्थ जीवन शैली और उपचार का पालन करना रेटिनल रोगों को रोकने या उन्हें बेहतर ढंग से प्रबंधित करने के बेहतरीन कदम हैं। -------------------------------------- Eye Ward Rateena day

Comments

Popular posts from this blog

सुपरस्टार रणबीर कपूर की उपस्थित में मॉल लुलु मॉल में 11-स्क्रीन सिनेमा हॉल का शुभारंभ

फिल्म फेयर एंड फेमिना भोजपुरी आइकॉन्स रंगारंग कार्यक्रम

अखिलेश ने मांगा लखनऊ के विकास के नाम वोट