हनुमानप्रसाद पोद्दार कैंसर अस्पताल ने आईएमए में सीएमई का आयोजन

लखनऊ। आईएमए भवन में गोरखपुर के हनुमान प्रसाद पोद्दार कैंसर अस्पताल एवं शोध संस्थान और आईएमए-एएमएस के तत्वाधान में नेशनल कैंसर सम्मलेन का आयोजन किया गया। इस सम्मेलन में देश के जाने-माने 150 से अधिक कैंसर विशेषज्ञों ने भाग लिया। इस सीएमई के माध्यम से कैंसर के इलाज में रेडियोथेरेपी के लिए सरकारी कैंसर अस्पतालों में लगी लंबी वेटिंग लिस्ट के समाधान के उपायों पर विस्तृत चर्चा की गई। हनुमानप्रसाद पोद्दार कैंसर अस्पताल एवं शोध सस्थान के संयुक्त सचिव रसेन्दु फोगला ने कहा कि यह कैंसर अस्पताल विगत कई दशकों से पूर्वांचल के गरीब कैंसर मरीजों के लिए वरदान साबित हुआ है। आज यहाँ बहुत ही कम कीमत में हजारों मरीजों का कैंसर का इलाज प्रसिद्ध कैंसर विशेषज्ञों द्वारा किया जा रहा है। लखनऊ के सीनियर कैंसर सर्जन डॉ मनोज श्रीवास्तव ने प्रदेश में कैंसर रोग के इलाज की वर्तमान स्थिति को दर्शाया। उन्होंने बताया कि प्रदेश के 75 जिलों में से केवल 9 जिलों में ही कैंसर सर्जन की उपलब्धता है। जिससे बाकी जिलों के मरीजों को इलाज के लिए बड़े शहर में जाना पड़ता है। उन्होने सरकार से कैंसर ट्रेनिंग सेण्टर खोले जाने का आवाहन किया जिससे प्रदेश में कैंसर विशेषज्ञों की कमी को दूर किया जा सके। जन सामान्य के प्रति उनकी संवेदना एवं सहृदयता को ध्यान में रखकर हनुमान प्रसाद पोद्दार कैंसर अस्पताल एवं शोध संस्थान में की स्थापना गोरखपुर में वर्ष 1982 में हुई। यह अस्पताल प्रारम्भ के लगभग 06-07 वर्षों तक कैंसर रोगियों की रेडियोथिरेपी चिकित्सा निःशुल्क करता रहा। शनैः शनैः प्रगति पर अग्रसर होते हुए यह अस्पताल वर्ष 1982 में कोबॉल्ट मशीन की स्थापना से प्रारम्भ करते हुए वर्ष 2013 में 6एम. वी. लिनीयर एक्सलेरेटर मशीन, वर्ष 2019 में 5 चैनल एच. डी. आर. ब्रेकीथिरेपी मशीन एवं अब वर्ष 2021 में उत्तर प्रदेश सरकार के सहयोग से विश्व की आधुनिकतम रेडियोथिरेपी की मशीन हाई एनर्जी टू-बीम लीनियर एक्सलरेटर स्थापित की गयी है। कैंसर रोगियों को एक ही छत के नीचे जाँच की सुविधायें उपलब्ध कराने के उद्देश्य से अस्पताल में 16- स्लाइस सी. टी. स्कैन मशीन, मैमोग्राफी, डिजिटल एक्स-रे, कलर डॉप्लर एवं हिस्टोपैथोलॉजी विभाग स्थापित है। अल्ट्रासाउण्ड, पैथोलॉजी कैंसर रोग की चिकित्सा हेतु यह पूर्वाचल का एक मात्र 100 बेड का दातव्य कैंसर अस्पताल है जहाँ कैंसर चिकित्सा की सभी विधायें यथा- मेडिकल आन्कोलॉजी, सर्जिकल आन्कोलॉजी एवं रेडिएशन आन्कोलॉजी की सुविधाएं उपलब्ध है। इस अस्पताल में पूर्वाचल के लगभग 13 जिलों- गोरखपुर, देवरिया, कुशीनगर, महराजगंज, सिद्धार्थनगर, बस्ती, संतकबीरनगर, बलरामपुर, गोण्डा, बहराइच, बलिया, आजमगढ़ एवं मऊ की लगभग 5 करोड़ की आबादी के कैंसर पीड़ित व्यक्ति अपने इलाज हेतु यहाँ आते हैं। नव स्थापित रेडियोथिरेपी चिकित्सा की मशीन टू-बीम लीनियर एक्सलरेटर में रेडियेशन की IMRT, IGRT, VMAT, SRT, DIBH, Electron Therapy इत्यादि विशिष्ट चिकित्सा विधियाँ उपलब्ध हैं जिनके प्रयोग से कैंसर रोगियों की दुष्प्रभाव रहित अत्याधुनिक रेडियोथिरेपी चिकित्सा दी जा रही है। वर्ष 2021 से जुलाई 2022 तक लगभग 527 रोगियों की अत्याधुनिक विधियों द्वारा इलाज किया गया। अस्पताल का सर्जरी विभाग अत्याधुनिक कैंसर सर्जरी हेतु पूर्णतया सुसज्जित है। इस विभाग में वरिष्ठ आंको-सर्जन की टीम द्वारा विभिन्न प्रकार की आंको-सर्जरी की जा रही है जिसका मरीजों को सर्वाधिक लाभ प्राप्त हो रहा है। विगत वर्षों में इस विभाग में लगभग 1519 सर्जरी की गयी है। वर्तमान में प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के अन्तर्गत पंजीकृत व्यक्तियों के कैंसर रोग का इलाज यहाँ सुविधाजनक एवं अत्याधुनिक मशीनों द्वारा किया जा रहा है। वर्ष 2020 से 2022 तक इस योजना के अन्तर्गत लगभग 4130 कैंसर रोगियों का सफलतापूर्वक इलाज किया जा चुका है। कैंसर हमारे देश में बहुत तेजी से बढ़ रहा है। जिस अनुपात में कैंसर के रोगी बढ़ रहे हैं उसके अनुरुप चिकित्सा व्यवस्था और मशीनों की उपलब्धि न होने के कारण कई मरीज अस्पताल पहुँचने के बाद भी सही समय पर सही इलाज से वंचित रह जाते हैं। कैंसर की रोकथाम हेतु यदि प्रारम्भिक स्तर पर प्रयास किये जाये और समय पर उनकी पहचान हो जाए तो कैंसर पीड़ित व्यक्ति का जीवन समय से बचाया जा सकता है। इसी उद्देश्य को दृष्टिगत रखते हुए एवं कैंसर रोग के प्रति आम जनमानस में जागरूकता लाने के ध्येय से यह अस्पताल सिर्फ अस्पताल में ही नहीं अपितु गाँव-गाँव, विद्यालयों तथा समस्त प्राथमिक एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में कैम्प लगाकर निःशुल्क जाँच एवं प्रशिक्षण शिविर आयोजित करता है। इस शिविर के माध्यम से जन-जन में कैंसर रोग की प्रारम्भिक अवस्था में पहचान हेतु जानकारियाँ उपलब्ध करायी जाती है जिससे यदि किसी को कैंसर रोग के संभावित लक्षण दिखें तो वह अस्पताल में सम्पर्क कर अपना इलाज समय से करा सके। इस सीएमई में देश के जाने माने कैंसर विशेषज्ञों डॉ आई.डी. शर्मा, डॉ एम.एल.बी. भट्ट, डॉ सुनील चतुर्वेदी, डॉ संदीप कुमार, डॉ शालीन कुमार, डॉ नीरज रस्तोगी, डॉ0 पुनीता लाल, डॉ सुषमा, डॉ मधुप, डॉ शरद, डॉ आलोक, डॉ सोड़ी, डॉ रामचन्दानी, डॉ अंशु गोयल एवं डॉ विवेक गर्ग ने अपने-अपने विचार रखें। इस मौके पर आईएमए प्रेसिडेन्ट डॉ मनीष टण्डन, सेक्रेटरी डॉ संजय सक्सेना तथा प्रेसिडेन्ट इलेक्ट डॉ जे डी रावत उपस्थित रहें। --------------------------------------------------------------- A Unit of Hanuman Prasad Poddar Smarak Samiti Gita Vatika, Gorakhpur -

Comments

Popular posts from this blog

फिल्म फेयर एंड फेमिना भोजपुरी आइकॉन्स रंगारंग कार्यक्रम

कार्ल ज़ीस इंडिया ने उत्तर भारत में पहले अत्याधुनिक ज़ीस विज़न सेंटर का शुभारंभ

फीनिक्स पलासियो में 'एट' स्वाद के शौकीनों का नया रोचक डाइनिंग एक्सपीरियंस