मोटापा मधुमेह उच्च रक्तचाप हृदय विकारों का कारण:डा प्रदीप

मोटापा मधुमेह उच्च रक्तचाप हृदय विकारों का कारण:डा प्रदीप लखनऊ। बढ़ते शहरीकरण और बदलती जीवन शैली के साथ गतिहीन जीवन शैली, मोटापे और महामारी बनने के लिए एक प्रमुख योगदान कारक बन गई है। मध्यम आयु वर्ग के व्यक्तियों में मोटापा बहुत आम है। यह मधुमेह उच्च रक्तचाप हृदय विकार, नींद विकार जोड़ों में दर्द बांझपन और कैंसर की बढ़ती संभावनाओं जैसी कई गंभीर बीमारियों का मूल कारण है। खराब जीवनशैली की आदतों के कारण युवा सबसे अधिक शिकार हो रहे हैं जिसके चलते किशोरो में मोटापे की घटनाएं बढ़ रही हैं। डब्ल्यूएचओ की एक नवीनतम रिपोर्ट के अनुसार अधिक वजन वाले या मोटे शिशुओं और छोटे बच्चों 0 से 5 वर्ष की आयु की संख्या 1990 में वैश्विक स्तर पर 32 मिलियन से बढ़कर 2016 में 41 मिलियन हो गई। यदि मौजूदा रुझान अधिक वजन वाले या मोटे शिशुओं की संख्या जारी रखते हैं और 2025,124 मिलियन तक विश्व स्तर पर छोटे बच्चे बढ़कर 70 मिलियन हो जाएंगे और किशोर 5.19 वर्ष की आयु के बीच मोटे हैं। डॉ प्रदीप चौबे अध्यक्ष मैक्स इंस्टीट्यूट ऑफ मिनिमल एक्सेस मेटाबोलिक एंड बेरिएट्रिक सर्जरी मैक्स सुपर स्पेशलिटी अस्पताल साकेत ने वेबनार में कहा बेहतर आर्थिक स्थिति के कारण शहरीकरण ने परिवहन के आसानी से उपलब्ध साधनों को जन्म दिया है जिससे शारीरिक गतिविधि लगभग शून्य हो गई है। उच्च कैलोरी वाले प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थ आसानी से उपलब्ध होते हैं जिनमें बहुत कम कोई पोषक तत्व नहीं होते हैं लेकिन वजन बढ़ाने में महत्वपूर्ण योगदान देते हैं। यह अधिक सेवन और लगभग कैलोरी के बर्न के कारण कैलोरी असंतुलन का कारण बनता है जो धीरे-धीरे अधिक वजन और मोटापे की स्थिति की ओर जाता है। खराब नींद का पैटर्न जिसका सीधा प्रभाव मेटाबोलिज्म पर पड़ता है। देर से सोने से देर रात तक सोने की संभावना बढ़ जाती है और जब हम सोते हैं तो मेटाबोलिज्म दर कम हो जाती है, इससे मोटापे का खतरा काफी बढ़ जाता है। पूछे जाने पर दस में से सात लोग मोटापे को खराब आत्म नियंत्रण और इच्छा शक्ति की कमी बताते हैं। अधिक वजन या मोटे होने के बारे में सामान्य धारणा या सटीक होने की गलत धारणा अभी भी बनी हुई है। हालांकि मोटापा एक गंभीर पुरानी बीमारी है जिसे एक बीमारी की तरह प्रबंधित करने की आवश्यकता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 2004 में मोटापे को एक बीमारी और एक भयानक दु:स्वप्न के रूप में मान्यता दी। जब यह महामारी के अनुपात में पहुंच गया। मोटापे को मापने के तरीके इसकी रोकथाम प्रबंधन और इसके साथ आने वाली स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं के बारे में जागरूकता अभी भी बहुत खराब और संदिग्ध है। सटीक होने के लिए मोटापा एक शारीरिक समस्या से कहीं अधिक है। बाल चिकित्सा मोटापे की घटनाओं में खतरनाक वृद्धि हुई है जो महत्वपूर्ण रूप से चिंताजनक है। मोटे बच्चों में से 80 प्रतिशत से अधिक बच्चे मोटे एडल्ट्स में विकसित होते हैं, जो भोजन के खराब विकल्प के कारण होते हैं, जिसमें आवृत्ति भाग का आकार पोषण और कैलोरी शामिल हैं। खाने की ये खराब आदतें अंतत: समय के साथ एक पूर्ण खाने के विकार में प्रकट होती हैं। उस समय से जब बाहर खाना त्योहारों तक सीमित हुआ करता था। ऑनलाइन डिलीवरी एप्लिकेशन के साथ एक अत्यधिक बदलाव आया है जो आपके दरवाजे पर कुछ भी और सब कुछ वितरित करता है। विषम घंटों में असमय नींद आना एक और चिंता है जो शरीर के अतिरिक्त वजन को बढ़ाती है। वास्तव में 7 घंटे से कम की नींद आहार और व्यायाम के लाभों को कम या कम कर सकती है। नींद की कमी बदले में व्यक्ति को भोजन के लिए तरसती है और वह भी कैलोरी से भरपूर भोजन। मोटापे के लिए एक वर्तमान दृष्टिकोण वजन बढ़ाने के बहुक्रियात्मक निर्धारकों और वजन घटाने से प्राप्त होने वाले स्वास्थ्य लाभों को स्वीकार करता है। डॉ चौबे ने कहा किसी भी वजन घटाने के प्रयास के लिए जीवनशैली में बदलाव, आहार और शारीरिक गतिविधि में वृद्धि आवश्यक है। बदली हुई नींद का पैटर्न जो विषम घंटों में असामयिक नींद है, गलत समय पर खाने में योगदान देता है जिससे चयापचय में गड़बड़ी होती है। 7, 9 घंटे की रोजाना सही समय पर नींद जरूरी है। अंतिम उपाय सर्जिकल प्रबंधन यानी बेरिएट्रिक सर्जरी है जो निरंतर वजन घटाने और मोटापे से संबंधित सभी बीमारियों के महत्वपूर्ण सुधार के लिए सबसे प्रभावी उपचार विकल्प साबित हुआ है। ------------------------------------------------------------------------------------------------- MAX HOSPITAL Sakeet ' 'High BP Dr Pradeep Chawbay

Comments

Popular posts from this blog

फिल्म फेयर एंड फेमिना भोजपुरी आइकॉन्स रंगारंग कार्यक्रम

अखिलेश ने मांगा लखनऊ के विकास के नाम वोट

कार्ल ज़ीस इंडिया ने उत्तर भारत में पहले अत्याधुनिक ज़ीस विज़न सेंटर का शुभारंभ