ज़िकित्ज़ा हेल्थकेयर ने माघ मेले में 15 लाख भक्तों की सेवा के लिए एम्बुलेंस उपलब्ध कराई

ज़िकित्ज़ा हेल्थकेयर ने माघ मेले में आने वाले 15 लाख से अधिक भक्तों की सेवा के लिए एम्बुलेंस उपलब्ध कराई लखनऊ । 1 मार्च-2022 से शुरू हुए 47 दिन चलने वाले वार्षिक धार्मिक माघ मेले-2022 का महा शिवरात्रि स्नान के साथ औपचारिक रूप से समापन हुआ। इस मेले में प्रयागराज मेला प्राधिकरण (पीएमए) ने यह सुनिश्चित किया था कि मेले में आने वाले संतों, तीर्थयात्रियों और भक्तों को सर्वोत्तम सुविधाएं मिले और भक्तों की सुरक्षा के लिए कोई कसर नहीं रहे। भारत में आपातकालीन चिकित्सा परिवहन सेवाएं प्रदान करने के क्षेत्र की जानी-मानी कंपनी ज़िकित्ज़ा हेल्थकेयर लिमिटेड को प्रयागराज में माघ मेला उत्सव के दौरान 30 एम्बुलेंस, 2 एएलएस और 28 बीएलएस के संचालन और प्रबंधन करने का मौका मिला। ज़िकित्ज़ा पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप मॉडल के तहत उत्तर प्रदेश सरकार के साथ मिलकर राज्य में 250 एडवांस लाइफ सपोर्ट एम्बुलेंस का भी संचालन करता है। ज़िकित्ज़ा हेल्थकेयर लि के उत्तर प्रदेश के प्रोजेक्ट हेड दीपक खरबंदा बताते हैं कि चाहे आप कसंर्ट, कार्निवाल, ट्रेड शो या उत्सव समारोहों के बारे में बात करें पर ऐसे पवित्र मेले में भारी संख्या में भीड़ होने के कारण अनहोनी की आशंका काफी ज्यादा रहती है। इस तरह के मेले में पहले कई बार भगदड़, आग और अन्य अप्रत्याशित आपदाएं आ चुकी हैं, जिसके परिणामस्वरूप कई मौकों पर बड़ी और छोटी दोनों तरह की चोटें लोगों को आई हैं और यहां तक कि मौतें भी हुई हैं। इस तरह की स्थिति में उपयुक्त आपातकालीन सेवाओं की उपस्थिति और उच्च प्रशिक्षित पैरामेडिकल के साथ पूरी तरह से सुसज्जित एम्बुलेंस निश्चित रूप से हताहतों और मौतों को कम करने में सक्रिय भूमिका निभाती है। इवेंट साइट पर एंबुलेंस के महत्व के बारे में बोलते हुए ज़िकित्ज़ा लिमिटेड के गवर्नमेंट बिजनेस के हेड श्री चंदन दत्ता ने कहा, “बड़े आयोजनों में किसी भी चिकित्सा आपात स्थिति के दौरान पेशेवर मेडिकल प्रैक्टिशनरों की टीम के साथ ऑनसाइट तैयार एम्बुलेंस लोगों की जान बचाने में मदद कर सकते हैं। सभी जरूरी सुविधाओं से लैस एंबुलेंस की उपलब्धता से आपातकालीन मेडिकल स्थिति के सही समय पर लोगों को उपचार मुहैया कराने में मददगार साबित होती है। इसके अलावा हम उत्तर प्रदेश सरकार और प्रयागराज मेला प्राधिकरण (पीएमए) समिति को धन्यवाद देना चाहते हैं कि हमें माघ मेले के एक पवित्र त्योहार के दौरान लोगों की सेवा करने का अवसर मिला। माघ मेला भारत के सबसे बड़े धार्मिक आयोजनों में से एक है, जिसमें लाखों लोग शामिल होते हैं। एक महीने से अधिक समय तक चलने वाले मेले में एक विशाल टेंट वाली टाउनशिप का निर्माण होता है, जो कॉटेज, टेंट, प्लेटफार्मों, नागरिक सुविधाओं, प्रशासनिक और सुरक्षा उपायों से परिपूर्ण होती है। यह सरकार, स्थानीय अधिकारियों और पुलिस द्वारा सुव्यवस्थित तरीके से आयोजित किया जाता है। माघ पूर्णिमा के पांचवें और अंतिम स्नान के दिन माघ मेले में लाखों भक्तों ने संगम में डुबकी लगाई। मेला अधिकारी के अनुसार लगभग 15 लाख भक्त पवित्र स्नान करने आए थे। मेला क्षेत्र और उनके निकास बिंदुओं में तीर्थयात्रियों की सुचारू आवाजाही सुनिश्चित करने के लिए पुलिसकर्मियों को सख्त निर्देश दिए गए थे। उन्हें किसी भी तरह की भगदड़ से बचने के लिए शहर में यातायात का प्रबंधन करने का भी निर्देश दिया गया है। इसके अलावा, ज़िकित्ज़ा की टीम ने किसी भी आपातकालीन स्थिति में कम से कम समय में पहुंचने के लिए विभिन्न प्रवेश और निकास बिंदुओं एम्बुलेंस और प्रशिक्षित टीम (ड्राइवर और पैरामेडिकल स्टाफ) को पूरी रणनीति के साथ तैयार किया था। Magha Mala Ambuiance

Comments

Popular posts from this blog

फिल्म फेयर एंड फेमिना भोजपुरी आइकॉन्स रंगारंग कार्यक्रम

कार्ल ज़ीस इंडिया ने उत्तर भारत में पहले अत्याधुनिक ज़ीस विज़न सेंटर का शुभारंभ

फीनिक्स पलासियो में 'एट' स्वाद के शौकीनों का नया रोचक डाइनिंग एक्सपीरियंस