डीएनए जघन्य यौन अपराधों के लिए न्याय का उपकरण:डा.पिंकी

डीएनए जघन्य यौन अपराधों के लिए न्याय का उपकरण:डा.पिंकी लखनऊ। पिछले कुछ महीनों में महत्वपूर्ण आंदोलनों से पता चलता कि देश आपराधिक न्याय प्रणाली के हिस्से के रूप में डीएनए प्रौद्योगिकी को और अधिक प्रमुखता से स्थापित करने की दिशा में काम कर रहा है। डीएनए बुनियादी ढांचे और जनशक्तिको मजबूत करने के लिए किए गए उपाय राष्ट्रीय डीएनए डेटाबेस के लिए तैयारी के निर्माण में लंबा रास्ता तय करेंगे, अगर डीएनए प्रौद्योगिकी विनियमन विधेयक-2019 संसद में इस शीतकालीन सत्र में आगे बढ़ सकता है। डीएनए इन्फ्रास्ट्रक्चर की नींव बनाने की दिशा में सकारात्मक आंदोलनों पर बोलते हुए भारत की वरिष्ठ अधिवक्ता उच्चतम न्यायालय डॉ पिंकी आनंद ने एक सेमीनार में कहा विज्ञान की उन्नति और डीएनए की उपयोगिता पीडि़तों के लिए विशेष रूप से जघन्य यौन अपराधों के लिए न्याय का एक उपकरण है। डीएनए सबूत को पहली बार 1985 में स्वीकार किया गया था। तब से डीएनए का उपयोग अभियुक्तों की पहचान करने और उन्हें पकडऩे के लिए तेजी से किया जाने लगा एक ताजा उदाहरण गुडिय़ा मामला है जहां एक सामूहिक बलात्कार और हत्या को डीएनए सबूत द्वारा सुलझाया गया था और आरोपी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी। डीएनए प्रौद्योगिकी विनियमन विधेयक डीएनए के उपयोग को संस्थागत और नियंत्रित करता है अन्य प्रावधान राष्ट्रीय और क्षेत्रीय डीएनए डेटा बैंकों की स्थापना कर रहे हैं। कम से कम 69 देशों में एक राष्ट्रीय डीएनए डेटाबेस है जिसने अपराध का पता लगाने और दोषसिद्धि लगा ने में उल्लेखनीय परिणाम दिखाए हैं। यौन अपराधों में बार-बार अपराधी एक दुर्भाग्यपूर्ण विशेषता है। डेटा बैंक के साथ अपराध के दृष्यों, संदिग्धों अंडर.ट्रायल का पता लगाने की क्षमता बहुत अधिक है। डेटा बैंक क्राइम सीन इंडेक्स संदिग्धों और अंडर.ट्रायल इंडेक्स यौन अपराध अपराधियों का इंडेक्स लापता व्यक्ति इंडेक्स और अज्ञात मृत व्यक्ति इंडेक्स जैसे डेटा को बनाए रखेगा। अपराधियों की सफल गिरफ्तारी अपराधियों की के साथ डेटा बैंक झूठे आरोपितों की बेगुनाही साबित करने में भी मदद करेगा। विधेयक का उददेश्य मुख्य रूप से आपराधिक जांच उददेश्यों के लिए डीएनए नमूने प्राप्त करने संग्रहित करने और परीक्षण के लिए एक नियामक ढांचा तैयार करना है। विधेयक में एक राष्ट्रीय डेटा बैंक और क्षेत्रीय डेटा बैंक स्थापित करने का भी प्रयास किया गया है। फिर ये प्रोफ ाइल कानून प्रवर्तन एजेंसियों को उन तरीकों से जांच में मार्गदर्शन करने के लिए हैं जो अब तक संभव नहीं हो पाए हैं। उस प्रभाव के लिएए डीएनए फोरेंसिक के लिए अत्याधुनिक तकनीकों की आवश्यकता होती है ताकि कानून प्रवर्तन एजेंसियों को अधिक अपराधों को सुलझाने और मुकदमा चलाने में मदद मिल सके। डीएनए अवसंरचना और जनशक्ति आवश्यकताओं के महत्व पर प्रकाश डालते हुए डॉ डी के थंगराज निदेशक सीडीएफ डी हैदराबाद ने कहा श्केंद्र और राज्य सरकार दोनों के अधिकारियों को क्षेत्रीय एफएसएल को उन्नत करके देश भर में विशेष रूप से आंतरिक जिलों में फ ोरेंसिक डीएनए अपराध प्रयोगशालाओं की क्षमता का विस्तार करने की दिशा में काम करते हुए देखना अच्छा है। भारत को एक राष्ट्रीय अपराधी डीएनए इस साल की शुरुआत में गृह मंत्री अमित शाह ने लखनऊ और गोवा में फोरेंसिक विज्ञान संस्थान की नींव रखी थी। अपने भाषण में राष्ट्रीय फोरेंसिक विज्ञान विश्वविद्यालय के गोवा परिसर का उद्घाटन करते हुए कहा केंद्र सरकार किसी भी अपराध में फोरेंसिक जांच को अनिवार्य बनाने पर विचार कर रही है जिसमें छह साल या उससे अधिक की संभावित सजा शामिल है। ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ DNA, Do pinky Nfsu

Comments

Popular posts from this blog

फिल्म फेयर एंड फेमिना भोजपुरी आइकॉन्स रंगारंग कार्यक्रम

अखिलेश ने मांगा लखनऊ के विकास के नाम वोट

कार्ल ज़ीस इंडिया ने उत्तर भारत में पहले अत्याधुनिक ज़ीस विज़न सेंटर का शुभारंभ