अल्ट्राटेक ने जीता फिक्की इंडियन सर्कुलर इकॉनमी अवार्ड-21

अल्ट्राटेक ने जीता फिक्की इंडियन सर्कुलर इकॉनमी अवार्ड 2021 प्रयागराज, भारत में ग्रे सीमेंट, सफ़ेद सीमेंट और रेडी मिक्स कंक्रीट की सबसे बड़ी निर्माता कंपनी अल्ट्राटेक सीमेंट लिमिटेड ने भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग महासंघ (फिक्की) द्वारा आयोजित इंडियन सर्कुलर इकॉनमी अवार्ड 2021 जीता है। बड़े उद्यमों की श्रेणी में अल्ट्राटेक ने यह पुरस्कार संयुक्त रूप से जीता है। बड़े उद्यमों की श्रेणी में संयुक्त विजेता होने के नाते, यह पुरस्कार न केवल अल्ट्राटेक के अपने व्यवसाय को सर्कुलर मॉडल की तरफ आगे ले जाने के प्रयासों की सराहना करता है, बल्कि कंपनी की रचनात्मक और असरदार प्रथाओं को भी मान्यता प्रदान करता है। फिक्की द्वारा आयोजित, इंडियन सर्कुलर इकॉनमी अवार्ड (आईसीईए) एक ऐसा पुरस्कार है जो ख़ास तौर पर सर्कुलर अर्थव्यवस्था के प्रति समर्पित है। पुरस्कार समारोह 25 नवंबर 2021 को वर्चुअल रूप से आयोजित किया गया था और सभी विजेताओं की घोषणा निति आयोग के सीईओ श्री अमिताभ कान्त की उपस्थिति में की गयी। आईसीईए का लक्ष्य ऐसे संस्थाओं और व्यक्तियों का सम्मान करना व उनके प्रयासों को पहचानना है जो अपनी नीतियों और रचनात्मक तरीके से सकारात्मक बदलाव लाने के लिए प्रयासरत हैं। यह पुरस्कार सर्कुलर इकॉनमी और एक सस्टेनेबल फ्यूचर के लिए किये गए छोटे बड़े योगदान को मंच प्रदान करता है। अल्ट्राटेक अपनी सभी प्रक्रियाओं में सस्टेनेबिलिटी लाने के लिए प्रतिबद्ध है। इसके कुछ खास केंद्र बिंदु हैं कार्बन-मुक्त होना, परिपत्र अर्थव्यवस्था (सर्कुलर इकॉनमी), जैव विविधता प्रबंधन, जल सकारात्मकता, सुरक्षित ऑपरेशन और सामाजिक उत्थान। अपने कच्चे माल को दुबारा इस्तेमाल करने को हमेशा ही अल्ट्राटेक ने प्राथमिकता दी है जिससे की प्राकृतिक संसाधनो पर भार कम हो सके और साथ ही उत्पन्न हुए कचरे या अपशिष्ट को भी दुबारा काम में लिया जा सके। अपनी सभी प्रक्रियाओं में कम से कम प्राकृतिक संसाधनों का इस्तेमाल हो यही अल्ट्राटेक का उद्देश्य रहता है। कुशल अपशिष्ट प्रबंधन के लिए भी कंपनी दो तरीके अपनाती है - 1. अपशिष्ट कम उत्पन्न हो इसीलिए कम से कम कच्चे माल का उपयोग करना। 2. कच्चे माल और पारंपरिक ईंधन का उपयोग कम करने के लिए, कंपनी के अपने प्लांट और अन्य उद्योगों द्वारा उत्पन्न अपशिष्ट, और साथ ही नगर पालिका द्वारा उत्पन्न अपशिष्ट का इस्तेमाल करना जिससे की कार्बन फुटप्रिंट कम किया जा सके, और साथ ही लैंडफिल में कचरा कम हो सके। सर्कुलर अर्थव्यवस्था के सिद्धांतों को ध्यान में रखते हुए कंपनी ने अपने द्वारा उत्पन्न अपशिष्ट को सुरक्षित और कुशल रूप से इस्तेमाल करने के लिए कई उपाय खोज निकाले हैं। अल्ट्राटेक द्वारा नगर पालिका और अन्य उद्योगों के साथ मिलकर अपनी भट्टियों में वैकल्पिक ईंधन के रूप में नगरपालिका के और अन्य कारखानों के ठोस अपशिष्ट का इस्तेमाल किया जाता है। वर्तमान में अल्ट्राटेक 80 नगर पालिकाओं के साथ काम कर रहा है, और उनके द्वारा लैंडफिल में भेजे जाने वाले अपशिष्ट की मात्रा को कम करने में मदद कर रहा है। सीमेंट बनाने की प्रक्रिया में इस्तेमाल हो रहे प्राकृतिक संसाधन लाइमस्टोन के उपयोग को कम करने के लिए, अल्ट्राटेक औद्योगिक अपशिष्ट जैसे की जिप्सम, स्लैग और फ्लाई ऐश का इस्तेमाल कर रहा है। हाल ही में अल्ट्राटेक की अनुसंधान और विस्तार टीम ने रेड मड - जो की एल्युमीनियम के कारखाने से निकलने वाला अपशिष्ट है - उसे सीमेंट बनाने की प्रक्रिया में कच्चे माल के रूप में इस्तेमाल करने की प्रक्रिया का पेटेंट लिया है।

Comments

Popular posts from this blog

रामसन्स फूड लि. ने लखनऊ सहित पूर्वी उ.प्र. में उतारे अपने प्रोडक्ट्स

समीर मोदी ने लखनऊ में अपनी विस्तार योजनाओं की घोषणा की

स्थानांतरण के नाम पर कर्मचारियों का शोषण न किया जाए : महासंघ